क) सारे विभिन्न महाद्वीपों के बीच पारस्परिक संबंधों में   वृद्धि।
ख) 16 मी सदी से पहले तक विभिन्न महाद्वीपों के लोग के बीच अंत संबंध व्याप्त और व्यवसाय का अभाव था।
ग) लेकिन 16वीं सदी में संसार के महाद्वीप के बीच व्यापार, व्यवसाय संस्कृति विचारों का आदान-प्रदान और लोगों की आवाजाही बढ़ी जो अमेरिका से ऐसी होकर यूरोप और अफ्रीका तक पहुंची।


शताब्दी में यूरोपीय संघ के सौदागर गांव में किसानों और कारी कारीगर से काम करवाने लगे।

17 वी सदी में यूरोपीय शहरों के सागर गांव में किसानों और कारीगर से काम करने लगे।
क) उस समय विश्व व्यापार के विस्तार और उपनिवेश की स्थापना के कारण उत्पादन बढ़ाना चाहते थे। परंतु शहरों में रहकर ऐसा नहीं कर सकते थे। क्योंकि वहां मजदूर संग और व्यापारिक गिल्ड्स काफी शक्तिशाली थे। जो उनके लिए अनेक समस्याएं पैदा कर सकते थे।
ख) गांव में गरीब कास्ट कार और दस्त कार सौदागर के लिए काम करने लगे इस समय काम चलाने के लिए छोटे किसान और गरीब किसान आमदनी के लिए एक नए स्रोत ढूंढ रहे थे गांव में बहुत से किसान के पास छोटा मोटा खेत थे लेकिन उनसे परिवार के सभी लोगों का भरण पोषण नहीं हो सकता था।
ग) शहरों के यूरोपीय सौदागर जब गांव में आए और उन्होंने माल पैदा करने के लिए पेशगी रकम दी तो किसान और कारीगर काम करने के लिए फौरन तैयार हो गए। यह लोग गांव मैं रहकर अपने खेतों को संभालते हुए सौदागरों का काम भी कर लेते थे।
घ) इस व्यवस्था से शहरों और गांवों के बीच एक घनिष्ठ संबंध विकसित हुआ सौदागर शहर में रहते थे। लेकिन उनके लिए काम ज्यादातर देहात में चलता था। चीजों का उत्पादन कारखानों के बजाय घरों में होता था और उस पर सौदागरों का पूरा नियंत्रण रहता था।



ब्रिटेन की महिला कामगारों ने स्पिनिंग जेनी मशीनों पर हमले किए

क) स्पिनिंग जेनी का आविष्कार जेम्स हरग्रीव्ज ने 1764 ईस्वी में किया इस मशीन ने कटाई का प्रक्रिया तेज कर दी जिसके कारण आज मजदूर की मांग घट गई।
ख) एक ही पहिए को घुमा कर एक मजदूर एक सारी को घुमा देता था और एक साथ कई धागे बनने लगे थे।
ग) बेरोजगारी के डर से महिला कारीगर जो हाथ से धागा काट कर गुजारा करती थी। घबरा गई।
घ) इसलिए उन्होंने इस नई मशीन को लगाने का विरोध किया और जहां-जहां यह मशीन लगाई गई उन्होंने उन पर आक्रमण करके उन्होंने तोड़फोड़ किया। महिलाओं का विरोध तोड़फोड़ काफी समय तक चलती रही।


क) इस आज आपसे भारतीय कपड़ा उद्योग को बड़ी हानि हुई। क्योंकि अब भारतीय कपड़े के उपभोक्ता बहुत कम रह गए। क्योंकि मेनचेस्टर का कपड़ा सस्ता और चमकदार था।
ख) इससे बहुत से बुनकर बेकार हो। गए जिन्हें आस-पास के नगरों से जाकर मजदूरों का काम करना पड़ा।